Tag Archives: Parks & Recreation

घुलता हुआ एहसास

Sad-Love-Poem

Ankit Chandra writes this forlorn lover poem with a caveat. Don’t label him as a forlorn lover, this is just an artistic creation. Wonderfully crafted though, enjoy

सोचता तो था की शायद उसको याद करता हूँ
पर अहसास अब कुछ कम होता है

कुछ समय पहले चाहता तो उसे बहुत था
पर महसूस अब थोडा कम करता हूँ

कहीं से कुछ कम हुआ है या खुद ही ख़त्म हो रहा हूँ
पर कुछ बातों को याद करके मायूस अब थोडा कम होता हूँ

सूरज को देखने की आदत तो नहीं पड़ी है,
पर चाँद को अब कभी कभी ही देखता हूँ

किसी और का नाम तो नहीं आया है अभी जुबां पे,
पर उसका नाम ज़रूर कम लेता हूँ

देर रात तक जागना तो अभी शुरू नहीं किया है,
पर रात में अभी भी कम सोता हूँ

आँखें अभी तक सूखी तो नहीं है
पर शायद अब थोडा कम रोता हूँ..

Advertisements