Tag Archives: Holi

A Ramnavmi Special : रामनवमी पर विशेष

Ram_Navmi1

 

Satish Tehlan here talks about the Ramnavmi and pays his homage to Lord Rama in this insightful piece. 

आज उस हस्ती का जन्मदिवस है जिनका नाम लेना ही अपने आप में अभिवादन है। महात्मा गाँधी जैसे महापुरुष के आखिरी शब्द भी उन्हें ही पुकार रहे थे। कहा जाता है राम नाम सत्य है और वाकई केवल यही सत्य भी है।  राम हिन्दूओं के लिए एक भगवान ही नहीं बल्कि उनके जीवन का एक अटूट अंग हैं। सुबह उठते हैं तो जय श्री राम,किसी से मिलते हैं तो राम-

राम और किसी अनहोनी या भय पर हे राम। राम इस देश में एक ऐसी महिमाशाली विभूतियाँ रहे हैं जिनका अमिट प्रभाव समूचे भारत के जनमानस पर सदियों से अनवरत चलाआ रहा है। राम सदाचार के प्रतीक हैं, और इन्हें “मर्यादा पुरूषोतम” कहा जाता है।

भगवान श्री राम का जन्मदिन रामनवमी एक पर्व के रूप में मनाया जाता है। चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को प्रतिवर्ष नये विक्रम सवंत्सर का प्रारंभ होता है और शुक्ल पक्ष की नवमी को रामजन्मोत्सव जिसे रामनवमी के नाम से जाना जाता है,  मनाया जाता है। रामनवमी, भगवान राम की स्‍मृति को समर्पित है। राम को भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है, जो पृथ्वी पर अजेय रावण(मनुष्‍य रूप में असुर राजा) से युद्ध लड़ने के लिए आए। राम राज्‍य (राम का शासन) शांति व समृद्धि की अवधि का पर्यायवाची बन गया है। रामनवमी के दिन, श्रद्धालु बड़ी संख्‍या में उनके जन्‍मोत्‍सव कोमनाने के लिए राम जी की मूर्तियों को पालने में झुलाते हैं।

maryada purshottam ram

मर्यादा पुरुषोत्तम

भगवान विष्णु ने राम रूप में असुरों का संहार करने के लिए पृथ्वी पर अवतार लिया और जीवन में मर्यादा का पालन करते हुए मर्यादा पुरुषोत्तम कहलाए। आज भी मर्यादा पुरुषोत्तम राम का जन्मोत्सव तोधूमधाम से मनाया जाता है पर उनके आदर्शों को जीवन में नहीं उतारा जाता। अयोध्या के राजकुमार होते हुए भी भगवान राम अपने पिता के वचनों को पूरा करने के लिए संपूर्ण वैभव को त्याग 14 वर्ष केलिए वन चले गए और आज देखें तो मर्यादा मर गई लगता है और उसकी याद ही बाकी है तभी तो वैभव की लालसा में ही पुत्र अपने माता-पिता का काल बन रहा है।

राम का जन्म

पुरूषोतम भगवान राम का जन्म चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की नवमी को पुनर्वसु नक्षत्र तथा कर्क लग्न में कौशल्या की कोख से हुआ था। यह दिन भारतीय जीवन में पुण्य पर्व माना जाता हैं। इस दिन सरयूनदी में स्नान करके लोग पुण्य लाभ कमाते हैं।

ram-navami-rituals

रामनवमी की पूजा

हिंदू धर्म में रामनवमी के दिन पूजा की जाती है। रामनवमी की पूजा के लिए आवश्‍यक सामग्री रोली, ऐपन, चावल, जल, फूल, एक घंटी और एक शंख हैं। पूजा के बाद परिवार की सबसे छोटी महिला सदस्‍यपरिवार के सभी सदस्‍यों को टीका लगाती है।

रामनवमी की पूजा में पहले देवताओं पर जल, रोली और ऐपन चढ़ाया जाता है, इसके बाद मूर्तियों पर मुट्ठी भरके चावल चढ़ाये जाते हैं। पूजा के बाद आ‍रती कीजाती है और आरती के बाद गंगाजल अथवा सादा जल एकत्रित हुए सभी जनों पर छिड़का जाता है।

 

Advertisements

क्यों करे मच्छर से शादी ……………. Awesome Must Read

By Anshuman Sharvesh
mosquito_ring
कल रात को हम अपने खाट पे मस्त हो के सो रहे थे
मुक्त हो के दुनिया के बन्धनों से मीठे सपने पीरो रहे थे
सपने में थी साथ हमारे एक सुन्दर सी नारी
तभी किसी ने हमे गाल पे एक जोरदार डंक मारी
उस डंक के प्रभाव से हमारी  नींद ही नहीं सपना भी टूट गया
मीठे सपने के साथ उस कोमल नारी का साथ भी छुट गया
       हम तिलमिलाए से उठे और कहा हे काले छुद्र से प्राणी
                                              क्यों हमारे कोमल से  गाल पे  डंक मारी
                                              तब हूम-हूम के साथ एक आवाज आई
                                              बत्तमीज़ हम है मच्छरों की राजकुमारी
                                              तुम्हारा खून चखने में बड़ा मीठा है
                                              इसलिए हम बनना चाहते है मिसेज़ तुम्हारी
ये सुनते ही मैं पूरी तरह हिल गया
पत्नियाँ पतियों का खून पीती हैं ये सुना तो था
पर ये साक्क्षात प्रेक्टिकल  हमे ही क्यों मिल गया
तब जा के मच्छरों की राजकुमारी ने कहा
हमसे विवाह करने के कुछ वेल्यु एडेड सर्विसेस हैं
साथ ही देश सेवा का दुर्लभ मौका है
                                               हमने कहा बात तो विचित्र है फिर भी कहो
                                               तो उस मादा मच्छर ने फ़रमाया
                                               कोई मच्छर आपको नहीं काटेगा
                                              और होगी आपकी मलेरिया फ्री जिंदगानी
                                              खून की कमी नहीं होने दूंगी इसकी है गारेंटी हमारी
हमने फिर हिम्मत कर के पूछा और “देश सेवा?”
तो उसने कहा अरे मूर्खों के सरताज
कम से कम देश की जनसँख्या में तो नहीं करोगे वृद्धि
गलती से ही सही किस्सी गरीब का पेट में दो अन्न क दाने जायेंगे
और तुम्हारी इस हरकत से देश में थोड़ी सी समृधि बढ़ जाएगी
                                             ये सुन के हमारा दिल मुह को आ गया
                                             अरे नसीब तो कईयों के फूटे होते है
                                             पर हमे तो मच्छर से शादी का प्रस्ताव आ गया
                                             कहाँ सजाये थे सुहागरात के सपने
                                            और कहाँ ये अभिशाप आगया
फिर जब हम शांति से बैठे सोचने
तो ख्याल आया की वो मछर बात पते की कर गई है
अरे भाई इस महंगाई में पलना बीवी को है काफी मुस्किल
सिंगल बेडरूम अपार्टमेन्ट में जीना दो लोगों का है नामुमकिन
रासन में भी होंगे कम खर्चे और एक और अजीब सा फायदा है
जब हो जाऊंगा कभी परेसान तो सिर्फ दो ही हाँथ तो चलाना है
                                             कमसेकम इस्सी बहाने मैं भी कुछ अच्छा कर जाऊंगा
                                             कुछ किये बिने ही देश सेवा कर जाऊंगा
                                             फायदे है अनेक मछर से शादी  करने के
                                             अरे कुछ नै तो कोइएल के खर्चे से तो बचा पाउँगा
                                              तो मान लीजिये एक सलाह हमारी
                                             बना लीजिये किसी मछर को अपनी राजकुमारी